बहन ने भाई से चूत चुदाई रज़ाई में

Share this story

antarvasna hindi sex story, अन्तर्वासना, hot sex story, best hindi sex story, nonveg hindi story

(Bahen Ne Bhai Se Chut Chudai Rajayi Me)

मेरा नाम राखी कत्याल है.. मेरी फिगर 36-30-32 की है. आप समझ सकते हैं कि मैं दिखने में कैसी हो सकती हूँ. जब भी मैं सड़क पर निकलती हूँ, तो गली मोहल्ले में भी कई लड़के मेरी मचलती जवानी पर कमेंट्स करते हैं.

मेरे घर में 2 भाई हैं, मम्मी पापा हैं.
सबसे पहले तो में आपको ये बता दूँ कि भाई भी सीधे नहीं होते. वो भी अपनी बहन की चुदाई करने के चक्कर में रहते हैं. बहुत से तो नहाते हुए भी बाथरूम में कहीं ना कहीं छेद करके देखते हैं और मुठ मारते हैं. पर कोई भी भाई ऐसा नहीं होगा कि लड़की सामने नंगी हो, तो उसे चोदे ना.

मेरी प्यारी बहनो.. आप सब भी कोशिश करके देखो आपका भाई भी आराम से हंस कर मान जाएगा. ये मेरा खुद का एक्सपीरियेन्स बोलता है और 100% सच भी है. बस यही एक ऐसा शिकार है जो खुद करना पड़ता है, बाकी और लौंडे तो गांड के पीछे दुर दुर करते हुए चोदने के चक्कर में पीछे पीछे लंड हिलाते हुए घूमते हैं.

जब तक आप ट्राई ही नहीं करोगी तो कैसे पता चलेगा. अपनी चूत की खुजली को मिटाने का भी यह एक सही तरीका है, इसमें ना बाहर की बदनामी का डर, ना कुछ.. कल को कुछ बात कहीं बिगड़ती भी है तो भाई संभाल लेते हैं क्योंकि उसको भी तो इस समाज में जीना है.

एक धर्म में तो रिश्तों में चुस्त चुदाई का खेल खुल्लम खुल्ला चलता है, तो हम में क्यों नहीं?
मेरे घर वाले पुराने ख्यालात के हैं.. बात बात में टोका टाकी, ऐसा नहीं करना, वैसा नहीं करना..

पहले मुझे सेक्स स्टोरी, ब्लू-फिल्म के बारे में नहीं पता था.. लेकिन धीरे धीरे वक्त के साथ जब मैं जवान हुई तो मेरे अन्दर कई तरह तरह की गरम गरम फीलिंग आने लगी, मैं रातों में सेक्स के लिए तड़पने लगी. मैंने सोचा क्या किया जाए, मुझे कुछ सूझ ही नहीं रहा था. बस चूत में उंगली और मम्मे दबाने के अलावा कोई रास्ता ही नजर नहीं आ रहा था.

मेरा घर कोई ज़्यादा बड़ा नहीं है, बस नीचे और ऊपर एक एक कमरे बने हैं. नीचे वाले में मम्मी पापा और छोटा भाई सोता है और ऊपर वाले कमरे में और मेरा भाई.
मेरा भाई बहुत स्मार्ट है, उसे मॉडल बनने की बड़ी तमन्ना है, वो बहुत स्टाइलिश भी है.

मैंने कई बार अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी साईट पर भाई बहन, जीजा साली की स्टोरी पढ़ी हैं. इस तरह की हिंदी सेक्स कहानी पढ़ कर मेरा भी मन मचलता है कि मैं भी ऐसा करूँ. पर थोड़ा ऐसा भी लगता था कि शायद ये सब स्टोरी झूठी होती हैं. पर अखबारों में घटनाएं पढ़ कर तथा कुछ और जानकारी होने पर मुझे भी यकीन हो गया कि वाकयी ये सब सच है.

मैंने भी अपने भाई से चुदने का फ़ैसला कर लिया क्योंकि अगर भाई मान गया तो रोज रात में मस्त चुदाई होगी और नींद भी अच्छी आएगी. ये सोचकर ही मेरा तो चुत से पानी निकल गया.
लेकिन कुछ समझ नहीं आया कि भाई को कैसे पटाऊं.
मैंने कई स्टोरी पढ़ीं कि भाई को कैसे सिड्यूस किया जाए.

एक दिन खाली दिमाग़ में कई विचार आए. मैंने सबसे पहले ये फ़ैसला किया पहले देखूं कि मेरा भाई भी मेरे शरीर का कुछ दीवाना है या नहीं. वैसे मेरा भाई कई बार रात में सोते वक्त कामुक आवाजों में सीत्कार सी करता था, शायद वो नींद में चुदाई के सपने देखता होगा. मैंने उसकी इन आवाजों को कई बार रातों में 3-4 बजे के करीब सुना है. उस वक्त मुझे कई बार लगता भी था कि शायद ये मुठ मार रहा होगा लेकिन वो नींद में ही सिसकारियां लेता रहता था.

इसी प्लान के साथ मैंने आगे बढ़ने का फैसला किया. हमारे इस कमरे में हम दोनों अकेले सोते हैं. कमरे में हमारे पास एक लैपटॉप है जिसे हम दोनों शेयर करते हैं. इसमें मेरे भाई की भी कुछ फाइल्स थीं.

मैं एक दिन उसके एक फोल्डर को चैक करने लगी. अचानक मेरी नज़र एक फोल्डर में पड़ी, मैंने उसको खोला, मैं देख के हैरान हो गई. उसमें बहुत सारी ब्लू फिल्म थीं.. जो बहुत ही अलग किस्म की चुदाई से भरपूर फ़िल्में थीं. खास बात ये वो ब्लू-फ़िल्में बहुत ही बढ़िया प्रिंट में थीं.

मैंने खुद ब्लू-फ़िल्में पहले कई बार देखी हैं लेकिन ऐसी मस्त चुदाई की फ़िल्में कभी नहीं देखी थीं. उसने भी इस फोल्डर को कोई ज्यादा छुपा कर नहीं रखा था. मैंने फिलहाल तो उस पूरे फोल्डर को अपने फोन में डाल लिया.

फिर मैंने सोचा शायद और भी कुछ मसाला मिल जाए. लेकिन इस वक्त समय नहीं था और भाई कभी भी आ सकता था तो मैंने ये सब अगले दिन पर टाल दिया.

मैंने अगले दिन देखा. वही हुआ, जो मैंने सोचा था, जिसकी मुझे उम्मीद भी थी. एक फोल्डर में मुझे भाई के पर्सनल पार्ट की फोटो ओर वीडियो मिली. इस वीडियो को देखकर मैं हैरान हो गई. भाई का बहुत ही सेक्सी लंड था. मैंने सोचा जब फोटो में लंड इतना अच्छा है तो असली में कैसा होगा.

फिर हुआ यूं कि उन दिनों जाड़े का मौसम था, रात के 2:30 बजे के करीब मेरी नींद खुली, तो मैंने सोचा क्यों ना आज भाई का लंड देखा जाए. मैंने उसकी रज़ाई में हौले से हाथ घुसेड़ा, ये सोच कर कि मान गया तो बल्ले बल्ले… नहीं तो नींद में होने का नाटक कर लूँगी ताकि उसे ये लगे कि नींद में गलती से हाथ चला गया.

लेकिन मैं 100% पक्की थी कि भाई कुछ नहीं कहेगा क्योंकि भाई कैसे भी लड़ते भिड़ते हों लेकिन एक जवान लड़की की दावत कभी नहीं छोड़ेगा, चाहे वो उसकी सग़ी बहन क्यों ना हो.

और मेरे साथ भी यही हुआ, कोई भी भाई अगर वो जवान है तो कभी मना नहीं करेगा. वैसे मैंने उसे एक बार मेरे मामा की लड़की के साथ रात में हरकत करते हुए देखा था लेकिन मैं उस टाइम कुछ नहीं बोली थी. उस वक्त मेरा दिमाग़ भी बच्चों जैसा था.

मेरा भाई रात में सोते वक्त बेल्ट नहीं पहनता और जीन्स के बटन खोल कर सोता है. बस मैंने रज़ाई में अन्दर हाथ डाला और धीरे धीरे कच्छे में हाथ घुसेड़ कर लंड मसलने लगी, सहलाने लगी.
मेरा जी तो कर रहा था कि मुँह में लेकर लंड चूस लूँ. पहले तो भाई का लंड बैठा हुआ था. करीब 5 इंच का रहा होगा. तभी भाई एकदम से हल्का सा हिला तो मैं वहीं हाथ रोक कर दम साधे लेटी रही.

फिर दो पल बाद मैंने लंड हिलाया तो उसका लंड एकदम से टाइट हो गया और खड़ा होने लगा. लंड करीब 7 इंच पूरा खड़ा हो गया. मैं समझ गई कि साला सोने का नाटक कर रहा है.
क्योंकि आप सभी जानते हो कि जो लड़के होते हैं, नॉर्मली नींद में उनका लंड ढीला ही रहता है. लंड में सख्ती जब तक नहीं आती है जब तक वो खुद होश में ना हो. मतलब बिना उसकी इच्छा के लंड खड़ा नहीं होता.

मैं समझ गई कि भाई भी लंड हिलवाने के मज़े ले रहा है. अब मैं और कस कस के लंड हिलाने लगी. मेरा डर निकल गया, ग्रीन सिग्नल जो मिल गया था.
वो ज़ोर ज़ोर से सिसकारियां लेने लगा- आअहह हहा.. आहह.. ऊऊहह ह्म्म्म्म..
मुझे उसकी अकड़न से समझ में आ गया कि उसके लंड का माल निकलने वाला है. फिर उसने एकदम से पलट कर मुझे गले से लगा लिया, मुझे चिपक गया और मेरे चूचे दबाने लगा. मैं तो खुश हो गई मेरी खुशी का ठिकाना ना रहा.

मैं भी उसे सहयोग करने लगी. हम दोनों ने रात में बिल्कुल भी किस नहीं की. क्योंकि रात में मुँह थोड़ी सी स्मेल जमा हो जाती है इसलिए..

उसने मुझसे अपना टॉप उतारने को कहा.
मैंने कहा- तुम ही उतारो.
उसने कहा- ठीक है तू मेरे कपड़े उतार.. मैं तेरे..

हम दोनों ने यही किया, उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए.. ब्रा पैंटी भी निकाल दी, मैं मादरजात नंगी हो गई. हम दोनों रज़ाई में एक दूसरे को मसले जा रहे थे, किस किए जा रहे थे. सेक्स का पूरा बुखार चढ़ा हुआ था.

फिर वो अपना मुँह मेरी चुत की तरफ ले गया और चूत चाटने लगा. मैंने अपनी चूत के बाल पहले से ही साफ़ करके रखे हुए थे कि मौक़ा मिलते ही भाई को अर्पित कर दूंगी अपनी चिकनी चूत!
भाई मेरी चिकनी चूत चाट रहा था और मेरी तो हालत खराब हो रही थी, मेरे मुँह से आवाज़ निकलने लगी- आआअहह ऊहमम्म्म.. आअहह.. मर गईईई.. भाईईई आआज्ज तो मसल दे भाई मसल अपनी इस प्यारी ठरकी बहन को आअहह उऊहह..

सच में क्या मज़ा आ रहा था, जब वो जीभ को मेरी चूत के अन्दर डाल डाल के जीभ की नोक से चोद रहा था.
फिर मैंने भी उसका लंड अपने मुँह में ले लिया और मस्ती से उसका मोटा लंड चूसने लगी.. लंड चूसते हुए मैं हिल हिल कर अपनी चूत उसके मुँह पर रगड़ने लगी. हम दोनों ने पूरी तरह से 69 की पोज़िशन ले ली और लंड चूत की चुसाई का मजा लेने लगे.

मैंने कहा- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बस कर भाई मत तड़पा अपनी बहन को.. डाल दे अंदर जल्दी से..

वो खड़ा हुआ और उसने मुझे लेटा कर मेरी टाँगें चौड़ी कर दीं. फिर अपने लंड को मेरी चूत की फांकों में हल्का सा फंसा कर जोर लगा कर अन्दर पेल दिया.
भाई का लंड क्या घुसा, मेरी तो जान ही निकल गई. मेरे मुँह से आवाज़ ही नहीं निकल पा रही थी. बस मैं इतना ही बोल पाई- आआअहह भाईई.. मररर गईई.. आरामम्म से अभी बाहर निकालऊ.. बहुत दर्द हो रहा है..

लेकिन वो बिल्कुल भी नहीं माना और लंड घुसाता हुआ चला गया, साथ ही वो झटके देने लगा. ‘खच खच पच पच..’ की आवाज़ आ रही थी. वो चोदता रहा. कुछ देर बाद मेरी चूत ने लंड से दोस्ती कर ली और चुदाई का मजा आने लगा.

करीब दस मिनट बाद वो झड़ा और उसने अपना रस मेरी चुत में ही झाड़ दिया. हम दोनों ने उस रात तो बस 2 बार ही चुदाई का खेल खेला क्योंकि मुझे दर्द बहुत हो रहा था.

उसे चुदाई का बड़ा एक्सपीरियेन्स था. उसने बहुत सारी लड़कियों की चूत चोद रखी थी. ये सब उसने मुझे बाद में बताया.

क्या मस्त चोदता है मेरा भाई.. मैं तो उसकी दीवानी हो गई. मैंने तय कर लिया कि जब तक मेरी शादी नहीं होती, मैं तो अपने भाई से चुदती रहूँगी और शायद शादी के बाद भी उसका लंड लेती रहूँगी.

अब हम दोनों भाई बहन हर रोज सेक्स करते हैं और रातों रात जागते हुए चुदाई करते रहते हैं. मैं तो अपनी सभी पाठिकाओं से यही कहूँगी कि अपने भाई को पटा लो, ब्वॉयफ्रेंड से अच्छा रहता है, ना खर्चा होता और ना दिल टूटने का डर.. जब मन में आए चूत पसार कर चुद लो.
आख़िर दोस्तो, आपको पता ही है कि सेक्स है ही ऐसी चीज़.. और ये ग़लत नहीं है.. ना कोई पाप है.

जब भगवान ने लंड चूत बनाया ही है, तो उसने ऐसा दिमाग़ ही क्यों दिया, जिसमें ऐसे ख्याल आते हैं. मुझे लगता है कि कोई भगवान नहीं होता, आख़िर ऐसा कौन है जो मरने के बाद लौटा हो और उसने बताया हो कि भगवान होते हैं. इसलिए सबसे बढ़िया बात ये कि जो करना चाहो, बिंदास करो, कुछ पाप नहीं होता. ये शरीर की ज़रूरत होती है सो लेट्स एंजाय दि लाइफ आंड सेक्स..

आपमें से कोई कुछ रिप्लाई या मेरी नोन वेज कहानी पर फीडबैक देना चाहता हो तो मुझे मेल कीजिएगा.