तीन पत्ती पर मिली मनीषा को चोदा

Share this story

(Teen Patti Par Mili Manisha Ko Choda)

जयेश जाजू
नमस्कार मित्रो, मैं आपका दोस्त जयेश मेरी आपबीती के साथ आपकी खिदमत में हाजिर हूँ। आशा है आप सभी तंदरुस्त होंगे और साथ ही आप जोरों में चुदाई भी कर रहे होंगे।
मित्रो, आज मैं आपके सामने मेरी और एक कहानी लेकर आया हूँ, उम्मीद है यह कहानी भी आपको बाकी सब कहानियों की तरह पसंद आएगी। मेरी पहली कहानियों के लिए मुझे आप सब का जो प्यार मिला उसके लिए मैं आप सबका हमेशा शुक्रगुजार रहूँगा। साथ ही मैं chudaai.xyz की पूरे टीम का भी धन्यवाद देता हूँ, जो मेरी हर कहानी को प्रकाशित करते हैं।
तो मित्रों अब आपका ज्यादा समय न लेते हुए मैं सीधा मेरी कहानी पर आता हूँ।

मित्रों आप सभी लोग ‘तीन पत्ती’ नाम के मोबाईल गेम से परिचित होंगे ही, इसी तीन पत्ती ने मेरे लिए चुदाई का और एक रास्ता खोल दिया।
कुछ ही दिनों पहले की बात है हमेशा की तरह मैं तीन पत्ती खेलने में व्यस्त था, तभी मेरे टेबल पर एक लड़की आई और वो भी हमारे साथ खेलने लगी।
इसी दौरान मैंने उसे संदेश भेजा और उसने भी मेरे संदेश का जवाब दिया। फ़िर मैंने भी उस लड़की से बात करना शुरु कर दी और मैंने उस लड़की से उसका नाम पूछा तो उसने अपना नाम मनीषा बताया।

बात को आगे बढ़ाते हुए मैंने उससे कुछ यहाँ-वहाँ की बातें पूछी, फ़िर मैंने उससे उसका फ़ोन नम्बर पूछा। पहले तो वो नंबर देने से मना कर रही थी, पर मेरे जिद करने पर आखिर उसने मुझे अपना नम्बर दे दिया।
इसके बाद ‘मैं उसे बाद में फ़ोन करता हूँ’ बोल कर चला गया।
उसका नंबर लेने के थोड़ी देर बाद मैंने उस नंबर पर फोन लगाया और उसने भी मेरे फ़ोन का जवाब देते हुए उसे उठाया और मुझसे बात करने लगी।
मैं- हैलो, क्या आप मनीषा बात कर रही हो?
मनीषा- हैलो, हाँ.. जी मैं मनीषा बात कर रही हूँ, आप कौन?
पहले तो उसने मुझे पहचाना नहीं!

मैं- अरे मैं जयेश.. आपका दोस्त, जो आपको तीन पत्ती पर मिला था… कुछ याद आया?
मनीषा- ओ… ओ… हाँ याद आया जयेश कहिए कैसे हो आप?
मैं- मैं ठीक हूँ, आप बताईए?
मनीषा- मैं भी ठीक हूँ.. तो क्या चल रहा है आपका?
मैं- बस यही रोज का काम और क्या.. आप बताइए!
मनीषा- मेरा भी वही सब!
फ़िर हम लोग इसी तरह अक्सर एक-दूसरे से बातें करने लगे। इसी दौरान मुझे पता चला कि वो मेरे गाँव के काफी करीब रहती है और साथ ही वो मुझसे काफी छोटी भी है।

इसी तरह हमारी बातों का सिलसिला काफी दिनों तक चलता रहा और अब हम एक-दूसरे को काफ़ी अच्छे से जानने लगे थे। साथ ही हम काफी अच्छे दोस्त भी बन गए थे।
कुछ दिन यूँ ही चलता रहा, फ़िर एक बार हमने सेक्स के बारे में भी फ़ोन पर काफी लम्बी बात की, तब उसने मुझे बताया कि उसे सेक्स का कोई अनुभव नहीं है और उसका भी कभी-कभार मन करता है, किसी के साथ सेक्स करने का.. पर उसका कोई प्रेमी न होने की वजह से वो ये सब नहीं कर पाती।
अब वो मुझसे भी पूछ रही थी कि क्या मैंने कभी सेक्स किया है?

मैंने भी उसे ‘ना’ कर दिया। उस दिन तो हम ज्यादा कुछ बात नहीं कर पाए, पर इतना तो पक्का था कि अब वो भी मचलने लगी थी। इसी बीच चार-पाँच दिन बीत गए फ़िर एक दिन उसका मुझे फ़ोन आया।
वो आज कुछ उदास लग रही थी, तो मैंने उससे पूछा।
मैं- क्या हुआ.. आज उदास लग रही हो, कुछ हुआ है क्या?
मनीषा- नहीं.. कुछ नहीं, बस यूँ ही!
मैं- नहीं, कुछ तो बात है.. बताओ जल्दी क्या बात है?
मनीषा- जयेश, क्या मैं तुझसे एक बात पूछ सकती हूँ?
मैं- हाँ हाँ पूछो!
मनीषा- क्या तुम मुझसे प्यार करते हो?
मैं- क्या? यह कैसा सवाल है.. तुम क्या पूछ रही हो?
मनीषा- सच बताओ हाँ या नहीं?

मेरे भी मन में अब लड्डू फूटने लगे, आखिर मुझे उसे चोदना जो था.. तो मैंने भी उसे ‘हाँ’ में जवाब दिया।
मैं- हाँ.. करता तो हूँ.. पर मैं तुम्हें बताने से डरता था… पर तुम ये सब क्यों पूछ रही हो?
मनीषा- असल में मैं भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ, पर मैं भी तुम्हें बताने से डरती थी। कहीं तुम बुरा न मान जाओ!
मैं- अरे उसमें डरने की क्या बात है… चलो जो हुआ सो हुआ, अब तो हम एक हुए ना!

मनीषा- हाँ.. हाँ पूरी तरह से एक हो चुके हैं हम, अब तुम ही मेरे राजा और मैं तुम्हारी रानी..!
अब मैं भी बड़ा खुश था और बस मनीषा को चोदने के बारे में सोचने लगा। कई बार तो फ़ोन पर ही एक-दूसरे को संतुष्ट किया करते थे, पर अब फ़ोन पर भी हमें जो मजा चाहिए वो नहीं मिल रहा था, तो हमने एक-दूसरे से मिलने का सोचा।

उसका गाँव ज्यादा दूर न होने की वजह से उसे भी कोई दिक्कत नहीं थी और वो भी आसानी से मुझसे मिलने के लिए राजी हो गई। इस तरह हमने एक दिन मिलने का तय किया। जिस दिन हमने मिलने का तय किया था, आखिरकार वो दिन आ ही गया। मैं भी सुबह जल्दी-जल्दी तैयार हो कर उसे लेने बस अड्डे पर पहुँच गया।

अरे मैं तो अपको मनीषा का पूरा परिचय देना ही भूल गया…! कोई बात नहीं अब दे देता हूँ। मनीषा एक बहुत ही मस्त लड़की थी उसका रंग गोरा, कद 5’4″, उसका फ़िगर लगभग 30-28-30 होगा, दुबली सी थी, पर साला कमाल की लड़की थी। उसके चूचे किसी गेंद की तरह गोल-मटोल थे, जो मुझे बहुत पसंद थे। उसके कूल्हे भी बड़े प्यारे थे, अब सीधा कहूँ तो वो बहुत मादक लड़की थी। इसीलिए तो मेरा उस पर दिल आ गया था।
कुछ ही देर में उसकी बस आ गई और वो भी मेरे सामने खड़ी हो गई। उसने गुलाबी रंग का टॉप और नीले रंग की जीन्स पहनी हुई थी, वो बहुत ही कामुक लग रही थी।

उसका टॉप और जीन्स बहुत फ़िट होने की वजह से उसके चूचे और गाण्ड काफ़ी उभर कर दिख रहे थे।
उसके वो 34″ चूचे क्या लग रहे थे..! मन तो कर रहा था कि वहीं उसे पटक कर उसके चूचों को जी भर कर चूस लूँ, पर चाह कर भी मैं वैसा नहीं कर पा रहा था।

Kamukta sex stories

खैर.. अब हम दोनों वहाँ से निकले और घूमने लगे। वो बाईक पर मेरे पीछे वाली सीट पर बैठी और उसने अपना हाथ मेरी जांघों पर रख दिया, तब मानो मेरे शरीर में बिजली सी कौंधने लगी थी।
इसी तरह हम आगे चलते गए और फ़िर एक सिनेमा घर के सामने मैंने अपनी बाईक रोक दी और हम सिनेमा देखने अन्दर चल दिए। यह सिनेमा काफी दिनों से चल रहा था तो वहाँ कुछ ज्यादा भीड़ नहीं थी और सिनेमाघर भी लगभग खाली पड़ा हुआ था।
हम अन्दर जाकर कोने वाली सीट पर बैठ गए ताकि कोई हमें देख न पाए।

जैसे ही सिनेमा शुरु हुआ, हाल में अँधेरा हो गया और मैंने अपना हाथ उसके हाथ पर रख दिया और बड़े प्यार से उसे मसलने लगा। यह देख कर वो भी मेरा साथ देने लगी।
अब मैंने भी धीरे-धीरे अपना हाथ उसके चूचों पर रख कर उसे प्यार से मसलने लगा। मेरा एक हाथ जो उसके कंधों से होकर उसके बाईं चूची पर जा रहा था और एक हाथ उसके दाईं चूची पर था और मैं दोनों हाथों से उसके चूचुक मसल रहा था।
क्या बताऊँ दोस्तों.. क्या मजा आ रहा था…! वो भी बड़े प्यार से उसके दोनों हाथ मेरे हाथों से लगा कर चूचे मसलने में मेरा साथ दिए जा रही थी और साथ ही बड़ी प्यारी सी सिसकारियाँ भी ले रही थी।
तभी मैंने अपना एक हाथ उसके चूचे से हटाया और पेट से घुमाते हुए उसकी चूत पर रख दिया। उसकी चूत जो कि दोनों टांगों के बीच में फंसी थी, बहुत फूली हुई लग रही थी…!

फ़िर मैंने उसकी चूत पर हाथ फ़ेरना शुरु कर दिया। इसी के साथ वो भी मचलने लगी, अब उस पर भी अब काम का भूत चढ़ने लगा था, जो उसके मुख से निकलने वाली ‘आहों’ से पर साफ़ प्रतीत हो रहा था।
फ़िर मैंने धीरे से उसकी जीन्स का बटन खोला और अपनी उंगली उसकी चूत में पेल दी और धीरे-धीरे अपनी उंगली को आगे-पीछे करने लगा। इसी के साथ उसने भी उसका हाथ मेरे लंड पर रख दिया जो कि काफी पहले से ही तन कर सलामी दे रहा था।
अब वो भी मेरी जीन्स के ऊपर से ही मेरे लंड को मसलने लगी और थोड़ी ही देर में उसने मेरे लंड को बाहर निकाल लिया और जोर-जोर से ऊपर-नीचे करके हिलाने लगी।

अब मैं भी उसकी चूत में जोरों से अपना हाथ आगे-पीछे कर रहा था।
तभी मैंने उसका मुँह अपनी ओर किया, जो अब तक बस ‘आ…आ…आ…ह्हूह्ह्ह्हूऊ…’ कर रहा था। साथ ही मैंने उसके लबों पर एक जोरदार चुंबन किया और उसे चूमने लगा।
वो भी मेरा पूरे जोश में साथ दे रही थी। उसमें अब चुदाई का इतना भूत सवार था कि वो मेरे लंड को बड़े जोरों से मसलने लगी। हम दोनों अब एक-दूजे में खो जाने के लिए काफी बेकरार थे।
तभी उसकी चूत से पानी निकलने लगा और उसमे मेरी उँगलियाँ भी भीग गई थीं। अब वो भी काफी बेचैन थी और मैं भी…!
फ़िर उसने धीरे से मेरे कान में कहा- जयेश, अब मैं और नहीं रुक सकती.. मुझे चोदो और फ़ाड़ दो मेरी चूत को… प्लीज़ जयेश चोदो मुझे… आआह्ह्ह ह्म्म…!

फ़िर हम वहाँ से निकले और मैं उसे एक होटल मैं ले गया। वहाँ हमने एक कमरा बुक किया और कमरे में चल दिए।
कमरे में जाते ही मनीषा मुझसे लिपट गई और पागलों की तरह मुझे चूमने लगी, वो कभी मुझे गालों पर चूमती, तो कभी गर्दन पर चूमती..!
इसमें मैं भी उसका पूरा साथ दे रहा था और अब हम पूरी तरह एक-दूसरे को चूमने में व्यस्त थे, मैंने अपनी जुबान उसकी जुबान से लगा रखी थी। वो भी मेरे मुँह के प्रेम रस को अपने में समाए जा रही थी और मैं उसके रस को पिए जा रहा था।
फ़िर चूमते-चूमते मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर जाकर उसके पूरे शरीर को चूमने लगा। अब वो भी पूरी तरह पागल हुए जा रही थी।
फ़िर मैंने उसके कपड़ों को उसके शरीर से अलग कर दिया।

वो सिर्फ गुलाबी ब्रा और पैन्टी में मेरे सामने पड़ी थी।
उसके वो मस्त चूचे, उसका पेट, उसकी चूत क्या बताऊँ यारों.. क्या गजब ढा रही थी वो…!
तभी मैंने उसके पेट को चूमते हुए उसकी पैन्टी भी निकाल दी और उसकी चूत को चूसने लगा…! इसी के साथ मैंने उसकी ब्रा भी निकाल फेंकी और फ़िर एक बार उसके चूचे दबाना शुरु कर दिए…!
वो भी मचल कर मेरा सिर चूत पर दबाए जा रही थी और ‘आह्हहा… ऽह्ह्ह्ह्… ह्म्म्म…’ आवाजें निकाल रही थी।
अब मैंने भी अपने सारे कपड़े खोल दिए और अपना लंड हाथ में लिए उसके सामने खड़ा हो गया। मेरा लंड देखते ही उसके आँखों में चमक आ गई और उसने जोर से मेरा लंड चूसना शुरु कर दिया।

लगभग दस मिनट तक चूसने के बाद उसने मुझसे फ़िर एक बार कहा- जयेश अब और मत तड़पाओ और फ़ाड़ दो मेरी चूत को.. चोदो मुझे… चोदो मुझे जयेश मैं तुम्हारा लंड लेने के लिए तड़प रही हूँ…
मैं- इतनी भी क्या जल्दी है मेरी रानी.. अभी तो और भी मजा बाकी है..!
मनीषा- अब और नहीं रुका जाता जयेश.. प्लीज़ चोदो मुझे.. प्लीज़…आआ… ह्ह्ह्ह्ह्…उफ़्फ़ुफ़्फ़ुफ़्फ़्फ़..!
मैं- ठीक है.. मेरी जान जैसा तू कहे…!

इतना कहते ही मैंने उसकी चूत के नीचे एक तकिया लगाया और अपना लंड उसकी चूत पर सैट कर दिया चूँकि यह उसकी पहली चुदाई थी, तो मैंने थोड़ा लोशन अपने लंड पर भी मसल लिया। अब मैं पूरी तरह से उसे चोदने के लिए तैयार था और वो भी चुदने के लिए बेचैन थी।
फ़िर मैंने उसके पैरों को फैलाया और अपना लंड उसकी चूत के छेद के पास सैट कर दिया और धीरे से मैंने धक्का लगाया, इसी के साथ उसकी चीख निकल पड़ी- आईईइ… आआआऊऊ…

फ़िर मैंने धीरे-धीरे लंड को आगे-पीछे करना शुरु किया, जैसे उसका दर्द कम होता गया, मैं भी अपनी स्पीड बढ़ाते गया।
करीब 5 मिनट के बाद अब वो भी मस्ती में आ गई। तभी मैंने मेरी स्पीड और बढ़ाई और जोर-जोर से उसे चोदना शुरु कर दिया।
अब वो भी चुदाई का भरपूर आनन्द लेने लगी और साथ ही उसकी आवाजें पूरे कमरे मे गूंजने लगीं- आह्ह्हाह्ह्ह आअह्ह्ह्ह ह्म्म्म… इस्स्स… आअहाह्ह्हाह… चोदो मुझे जयेश और चोदो बस चोदते रहो.. मुझे बहुत मजा आ रहा है.. तुम बहुत प्यारे हो और तुमसे भी ज्यादा तुम्हारा लंड प्यारा है और चोदो.. मुझे.. फ़ाड़ दो मेरी चूत को…आह्हाअह्ह्ह…

फ़िर मैंने उसकी टाँगों को मेरे कन्धों पर रख लिया और उसके चूचों को मसलते हुए और जोरों से उसको चोदना शुरु कर दिया।
करीब दस मिनट के बाद उसका बदल अकड़ने लगा, मैं समझ गया था कि मनीषा पानी छोड़ने वाली है, इसी के साथ मेरा भी निकलने वाला था।
मैंने उसे बताया- मैं आने वाला हूँ।
तो उसने मुझसे कहा- वहाँ मत गिराना… मैं तुम्हारा रस पीना चाहती हूँ!
फ़िर हम दोनों 69 की पोजिशन में आ गए।
अब वो मेरा लंड चूस रही थी और मैं उसकी चूत चूस रहा था। बस थोड़ी ही देर में हम दोनों का पानी निकलने लगा। वो बड़े ही प्यार से मेरा रस पी गई और मैंने भी उसका रस पी कर उसकी चूत साफ़ कर दी।

अब हम दोनों नंगे एक-दूसरे की बाहों में बाहें डाले लेटे हुए थे, मनीषा के चेहरे से उसकी खुशी साफ़ झलक रही थी।
फ़िर मैंने उससे पूछा- क्यों मजा आया..?
मनीषा- क्या बताऊँ जयेश… कितना मजा आया… तुमने मुझे आज वो सुख दिया है, जो शायद ही मुझे कहीं और से मिल पाता..! थैंक्यू जयेश.. आज के बाद मैं तुम्हारी हूँ बस तुम्हारी..!

मैं- अरे, मेरी जान अभी शुरुआत है.. मैं तुम्हें और भी मजे कराऊँगा.. तुम बस देखती जाओ।
मनीषा- बस मुझे यही चाहिए और कुछ नहीं।
फ़िर कुछ देर बाद मेरा लंड फ़िर एक बार चुदाई के लिए तैयार था और फ़िर मैंने उसे कई अलग-अलग अंदाज़ में चोदा।
वो कैसे.. मैं आपको मेरी अगली कहानी में बताऊँगा। तब तक के लिए मेरा नमस्कार।
तो मित्रो, मेरी यह कहानी आपको कैसी लगी मुझे जरुर बताना।
मुझे आपके मेल का इंतजार रहेगा।